संतान की लंबी आयु के लिए रखा जाता है कमरछठ या हलषष्ठी व्रत

संतान की लंबी आयु के लिए रखा जाता है कमरछठ या हलषष्ठी व्रत

0
197
Hal Shasthi Vrat
Hal Shasthi Vrat

संतान की लंबी आयु के लिए रखा जाता है कमरछठ या हलषष्ठी व्रत

नमस्कार दोस्तों, आज आप सबको छत्तीसगढ़ में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण पर्व हलषष्ठी ( कमरछठ ) के बारे में बताने जा रहा हूँ, अगर आपको यह पोस्ट अच्छा या सही लगे तो सभी के साथ शेयर करे, धन्यवाद।

Hal Shasthi Vrat
Hal Shasthi Vrat

इस दिन महिलाएं अपने संतान (पुत्र-पुत्री) की दीर्घायु और सुख समृद्धि के लिए व्रत रखती है जिसे हलषष्ठी व्रत कहा जाता है, हलषष्ठी का पर्व भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की षष्ठी को भगवान श्रीकृष्ण के ज्येष्ठ भ्राता श्री बलरामजी के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन श्री बलरामजी का जन्म हुआ था।

इस दिन एक माँ अपने बच्चों के लिए व्रत रखकर भगवान् से उनके दीर्घायु व सुख समृद्धि के लिए मन्नत मांगती है, इस अवसर पर महिलाएं सगरी बनाकर उसमें जल डालकर पूजा अर्चना कर संतान की दीर्घायु की कामना करती है।इस दिन महिलाएं सुबह स्नान-ध्यान कर दोना में पूजन सामग्री लेकर मंदिर जाकर पूजा स्थल को गोबर से लीपा कर व गड्ढा खोदकर सगरी बनाती है, भगवान गणेश, शंकर, माता पार्वती की पूजा की जाती है,

पूजा के दौरान पसहर चावल के व्यंजन का भोग लगाया जाता है, साथ ही महुआ, चना, भैंस के दूध, दही, घी, जौ, गेहूं, धान मक्का आदि भी अर्पित कर पूजा अर्चना की। इस पर्व को हलषष्ठी, हलछठ , हरछठ व्रत, चंदन छठ, तिनछठी, तिन्नी छठ, ललही छठ, कमर छठ, या खमर छठ भी कहा जाता है। इस साल यह व्रत बुधवार 21 अगस्त को मनाया जाएगा।
इस तरह पूजा अर्चना कर महिलाएं अपने संतान की लम्बी आयु और सुख-समृद्धि के लिए ईश्वर से प्रार्थना करती है, और पूजा के पश्चात हलषष्ठी की कथा सुनती है |

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इस पोस्ट को सभी के साथ शेयर करें, लाइक करें, कमेंट करें आप सभी बहुत बहुत का धन्यवाद।।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here